सवर्ण वर्चस्व को ढ़ंकने और सामाजिक न्याय का गला घोंटने के लिए जाति जनगणना नहीं करा रही है,सरकारें

सवर्ण वर्चस्व को ढ़ंकने और सामाजिक न्याय का गला घोंटने के लिए जाति जनगणना नहीं करा रही है,सरकारें
WhatsApp Image 2021-01-08 at 15.08.21
WhatsApp Image 2021-01-17 at 13.22.37
tall copy
WhatsApp Image 2021-01-26 at 12.25.37
Untitled-1

बिहार

किसान आंदोलन के साथ एकजुटता में 13वें दिन सामाजिक न्याय आंदोलन(बिहार) और बहुजन स्टूडेंट्स यूनियन(बिहार) के बैनर तले ‘शहीद जगदेव-कर्पूरी संदेश यात्रा’ जारी रही.शाहकुंड प्रखंड के बरियारपुर, हरनथ, समस्तीपुर, सतपरैया,इमादपुर, खैरा, लौगांय,खुलनी आदि गांवों में ग्रामीणों से संवाद हुआ,सभाएं हुई.

सामाजिक न्याय आंदोलन(बिहार) के रामानंद पासवान और रंजन कुमार दास ने कहा कि आज भी हमारे मुल्क में संपत्ति-संसाधनों,राजनीति और प्रशासन पर उच्च जातियों का वर्चस्व है.वर्ण-जाति ही सामाजिक हैसियत भी तय करता है.नरेन्द्र मोदी सरकार हर क्षेत्र में सवर्ण वर्चस्व को बढ़ा रही है.ब्राह्मणवाद को मजबूत कर रही है.तीन कृषि कानून भी बहुजनों को सामाजिक-आर्थिक-राजनीतिक तौर पर कमजोर करेगा.

सामाजिक न्याय आंदोलन(बिहार) के अंजनी और बरुण कुमार दास ने कहा कि आजादी के बाद अभी तक की तमाम सरकारें जाति जनगणना से भागती आ रही हैं.मंडल कमीशन की रिपोर्ट में भी जाति जनगणना की जरूरत को रूखांकित किया गया था.जाति जनगणना कराकर आंकड़े सार्वजनिक किए जाने चाहिए,ताकि समाज के विभिन्न जाति-समुदायों की सामाजिक-आर्थिक-राजनीतिक जीवन का सच पता चल सके.यह सच भी सामने आए कि कौन सी जाति /समुदाय दूसरों का हिस्सा खा रही है व कौन सी जाति /समुदाय अपने हिस्से से वंचित है.जाति जनगणना सामाजिक न्याय व विकास के ठोस व उचित पहल के लिए जरूरी है.लेकिन
सवर्ण वर्चस्व को ढ़ंकने और सामाजिक न्याय का गला घोंटने के लिए जाति जनगणना नहीं करा रही है,सरकारें!नरेन्द्र मोदी सरकार जाति जनगणना की गारंटी करे.

यात्रा में थे-रंजन कुमार दास, सुनील दास,बरुण कुमार दास, धनन्जय दास, अर्जुन यादव,प्रह्लाद राम सहित कई एक.

 35 total views,  1 views today

shyam ji

shyam ji

Leave a Reply