चमत्कार! दिनों-दिन बढ़ता ही जा रहा है इस मंदिर की गणेश मूर्ति का आकार

चमत्कार! दिनों-दिन बढ़ता ही जा रहा है इस मंदिर की गणेश मूर्ति का आकार
WhatsApp Image 2021-01-08 at 15.08.21
WhatsApp Image 2021-01-17 at 13.22.37
tall copy
WhatsApp Image 2021-01-26 at 12.25.37
Untitled-1

आंध्रप्रदेश

भगवान गणपति के चमत्कारों की कई कहानियां पुराणों में प्रसिद्ध हैं। परन्तु उनके चमत्कार आज भी देखे जा सकते हैं इन्हीं में एक चमत्कार आंध्रप्रदेश के चित्तूर का कनिपक्कम गणपति मंदिर भी है। भगवान गणेश को समर्पित यह मंदिर कई कारणों से अपने आप में अनूठा और अद्भुत है।
चित्तूर में एक नदी के बीचों-बीच बने इस मंदिर में भगवान गणेश की मूर्ति विराजमान है। बताया जाता है कि यह प्रतिमा काले प्रस्तर की बनी हुई है। प्रचलित मान्यता के अनुसार यहां आने वाले भक्तों के कष्टों को भगवान गणपति तुरंत दूर करते हैं।

*मंदिर बनने की अदभुत कहानी*
लोक मान्यताओं के अनुसार काफी पहले यहां तीन भाई रहा करते थे। इनमें एक अंधा, दूसरा गूंगा तथा तीसरा बहरा था। तीनों अपनी खेती के लिए कुआं खोद रहे थे कि उन्हें एक पत्थर दिखाई दिया। कुएं को और गहरा खोदने के लिए जैसे ही पत्थर को हटाया वहां से खून की धारा फूट पड़ी। देखते ही देखते कुएं में लाल रंग का पानी भर गया लेकिन इसी के साथ एक चमत्कार भी हुआ। वहां पर उन्हें गणेशजी की एक प्रतिमा दिखाई दी, जिसके दर्शन करते ही तीनों भाईयों की अपंगता तुरंत सही हो गई।
यह बात जल्द ही जंगल में आग की तरह पूरे गांव में फैल गई और दूर-दूर से लोग उक्त प्रतिमा के दर्शनार्थ आने लगे। काफी विचार-विमर्श के बाद उस प्रतिमा को उसी स्थान पर स्थापित किया गया। इसके बाद वहां 11वीं सदी के चोल राजा कुलोतुंग चोल प्रथम ने मंदिर की पुनर्स्थापना की।

यहां दर्शन करने वाले भक्तों का मानना है कि मंदिर में मौजूद मूर्ति का आकार दिनों-दिन बढ़ता जा रहा है। कहा जाता है कि यहां मंदिर में एक भक्त लक्ष्माम्मा ने भगवान गणेश के लिए एक कवच दिया था जो कुछ दिनों बाद छोटा होने के कारण प्रतिमा को पहनाया नहीं जा सका। आज तक लोग इस रहस्य को नहीं जान सके कि आखिर कैसे यहां की गणेश प्रतिमा का आकार बढ़ता जा रहा है। सचमुच ईश्वर की लीला को कोई समझ नहीं सकता।

 79 total views,  1 views today

shyam ji

shyam ji

Leave a Reply