हाजीपुर-बछबाड़ा 72 किमी रेलखंड दोहरीकरण जुलाई तक होगा पूरा : महाप्रबंधक

हाजीपुर-बछबाड़ा 72 किमी रेलखंड दोहरीकरण जुलाई तक होगा पूरा : महाप्रबंधक
WhatsApp Image 2021-01-08 at 15.08.21
WhatsApp Image 2021-01-17 at 13.22.37
tall copy
WhatsApp Image 2021-01-26 at 12.25.37
Untitled-1

संवाददाता, हाजीपुर

– पूर्व मध्य रेल महाप्रबंधक एलसी त्रिवेदी ने समीक्षा करते हुए दी जानकारी

हाजीपुर-बछवाड़ा रेलखंड का दोहरीकरण कार्य जुलाई माह तक पूरा कर ली जाएगी। इस खंड पर करीब 72 किमी दोहरीकरण परियोजना के निर्माण प्रगति की समीक्षा करते हुए पूर्व मध्य रेल महाप्रबंधक एलसी त्रिवेदी ने यह जानकारी दी है। समीक्षा के बाद उन्होंने बताया कि रेलखंड के बछवाड़ा-शाहपुर पटोरी के बीच करीब 33 किमी रेलखंड का दोहरीकरण कार्य पूरा करते हुए गत मार्च 2020 से ही चालू कर दिया गया है। इसके बाद शेष बचे शाहपुर पटोरी-सहदेई बुजूर्ग करीब 12 किमी रेलखंड को मार्च 2021 तक पूरा करा लेने का लक्ष्य है। वहीं सहदेई बुजूर्ग-अक्षयवट राय नगर 14 किमी जुलाई माह तक तथा अक्षयवट राय नगर-हाजीपुर के बीच लगभग 11 किमी रेलखंड का दोहरीकरण कार्य जून 2021 तक पूरा कराकर चालू कर दिया जायेगा।
पूर्वोत्तर बिहार में यात्रियों के लिए काफी महत्वपूर्ण हाजीपुर-बछबाड़ा रेलखंड माल ढ़ुलाई के लिए सुगम, सस्ती और दूरी कम करने वाली रेलखंड भी है। इसके दोहरीकरण हो जाने से लंबी दूरी की यात्री एवं माल गाड़ियों को काफी कम समय में उसके गंतव्य तक पहुंचाने में सहूलियत होगी। इस खंड का दोहरीकरण कार्य शीघ्र पूरा कराने के लिए पूर्व मध्य रेल प्रयासरत है। रेल बजट में इसके लिए राशि का भी प्रावधान कर दिया गया है, जिससे काम को तेजी से पूरे करा लेने की उम्मीद की जा रही है।
महाप्रबंधक ने इरकॉन के माध्यम से बनाए जा रहे हाजीपुर-बछबाड़ा दोहरीकरण कार्य की समीक्षा करते हुए इसे तेजी से पूरे कराने का निर्देश दिया। इसी क्रम में रामपुर डुमरा- टाल- राजेंद्र पुल अतिरिक्त रेलपुल एवं दोहरीकरण परियोजना की कार्यों की समीक्षा की गई। समीक्षा के दौरान बताया गया कि गंगा नदी पर निर्माणाधीन 14 किमी लंबे इस दोहरीकरण परियोजना के 18 में से 13 वेल फाउंडेशन का कार्य प्रगति पर है। उत्तर दिशा के पहुंच पथ पर 5 प्रतिशत मिट्टी का कार्य पूरा हो गया है। विदित हो कि वर्तमान में राजेंद्र पुल सिंगल लाइन ब्रिज है, दोहरीकरण कार्य पूरा होने के बाद उत्तर बिहार एवं दक्षिण बिहार के बीच रेल आवागमन और सुगम हो जाएगा।
सूत्रों के अनुसार पूर्व मध्य रेल को कैपिटल एक्सपेंडीचर के रूप में कुल 4844 करोड़ रुपये का आवंटन हुआ है। जिसमें नई रेल लाइन के लिए 596 करोड़, आमान परिवर्तन के लिए 190 करोड़, दोहरीकरण के लिए 182 करोड़, रेलवे गुमटियों पर उपरी एवं निचली सड़क पुल के लिए 206 करोड़, समपार सड़क संरक्षा में 74 करोड़, ट्रैक नवीनीकरण में 580 करोड़, सोननगर-दानकुनी नई लाइन के लिए 2959 करोड़, यात्री सुविधाओं के विस्तार में 171 करोड़, उत्पादन इकाइयों और कारखाने के लिए 134 करोड़, सिगनल एवं दूरसंचार कार्य के लिए 161 करोड़ तथा पुल-सड़क पहुंच पथ कार्यों के लिए 72 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया है।

 25 total views,  1 views today

shyam ji

shyam ji

Leave a Reply