प्रशिक्षण से रोजगार की संभावना

प्रशिक्षण से रोजगार की संभावना
WhatsApp Image 2021-01-08 at 15.08.21
WhatsApp Image 2021-01-17 at 13.22.37
tall copy
WhatsApp Image 2021-01-26 at 12.25.37
Untitled-1

केवटी। प्रखंड के पिंडारुच गांव में अनादि उद्यम विकास संस्थान द्वारा स्थापित वस्त्र छापा कला प्रशिक्षण केंद्र का उद्घाटन मंगलवार को नवारड बिहार के डीजीएम मृणाल रंजन ने किया। इसके माध्यम से अनादि फाउंडेशन ने हस्तशिल्प, कौशल विकास एवं उद्यम विकास के लिए सभी आवश्यक कार्य करने की योजना है। फाउंडेशन के अध्यक्ष प्रदीप कांत चौधरी की अध्यक्षता में आयोजित कार्यक्रम को बतौर मुख्य अतिथि नवारड बिहार के डीजीएम मृणाल रंजन ने वस्त्र छापा कला उधोग से संबंधित प्रशिक्षण की सराहना करते हुए कहा कि इससे लोगों को रोजगार मिलेगा और कमाई भी होगी । उन्होंने कहा कि उत्पादन के बाद इसके बाजारों में मांग स्वयं बढेंगे। उन्होने इसमें यथासंभव सहयोग देने के अश्वासन दिये। इस मौके पर विशिष्ट अतिथि शेरिल शर्मा, सी ई ओ रागा टेक्सटाइल इंडस्ट्रीज, जयपुर, श्रीमती मारिया ग्लोरिया सी ई ओ तानाबाना टेक्सटाइल, मेड्रिड, स्पेन डॉ रानी झा ,प्रसिद्ध मिथिला चित्रकार, एवं श्रीमती आकांक्षा विष्णु डी डी एम, नाबार्ड, दरभंगा आदि वक्ताओं ने वस्त्र कला छापा की क्षेत्र में श्री चौधरी प्रयासों की सराहना करते हुए शुभकामनाएं दीऔर अपनी सहयोग और सहानुभूति देने की बात कही।
फाउंड चौधरी ने फाउंडेशन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि बिहार के विकास के लिए वस्त्र उद्योग बहुत आवश्यक है, लेकिन बिहार में ऐसे विकास के लिए एक खर्चीले टेक्सटाइल पार्क की बजाय 100 सस्ते टेक्सटाइल विलेज के निर्माण की जरूरत है। उन्होंने तीन स्लोगन में अपनी बातों को सूत्रबद्ध किया: भोजन भी, वस्त्र भी; घर भी बाहर भी; सरकार भी, बाजार भी है। अनादि फाउंडेशन ने मिथिला चित्र कला को ब्लॉक प्रिंट में लाने का अभियान भी शुरू किया है। मिथिला चित्रकला पहले सिर्फ दीवारों पर बनाई जाती थी। फिर इसे कागज पर बनाया जाने लगा और उसके बाद आज से महज 50 वर्षों पूर्व इसे कपड़े पर लिखा जाने लगा। अनादि फाउंडेशन का मानना है कि अब इसे ब्लॉक प्रिंट में ले जाने का समय आ गया है। इससे उत्पादन लागत घटेगी और यह मिथिला चित्रकला को नई ऊंचाइयों तक ले जाएगा।
ब्लॉक प्रिंटिंग में अरबों रुपये के व्यापार की संभावना है। कार्यक्रम को सरपंच मिथिलेश कुमार मिश्र,पूर्व सरपंच शिव कांत झा आदि ने संबोधित किया।

 85 total views,  1 views today

shyam ji

shyam ji

Leave a Reply