आंगनबाड़ी केंद्रों पर मिशन इंद्रधनुष कार्यक्रम का जिला कार्यक्रम पदाधिकारी ने किया निरीक्षण

आंगनबाड़ी केंद्रों पर मिशन इंद्रधनुष कार्यक्रम का जिला कार्यक्रम पदाधिकारी ने किया निरीक्षण
WhatsApp Image 2021-01-08 at 15.08.21
WhatsApp Image 2021-01-17 at 13.22.37
tall copy
Untitled-1
WhatsApp Image 2021-03-05 at 1.52.50 PM

मधुबनी

– टीकाकरण से एक भी बच्चे छूटे ना का दिया निर्देश
-साफ-सफाई और जरूरी व्यवस्था का लिया जायजा।
-आंगनबाड़ी केंद्र खोलने के लिए अभिभावकों से किया विमर्श

जिला में सघन मिशन इंद्रधनुष- तीन के प्रथम चक्र की शुरुआत सोमवार को हुई । इस अभियान के तहत जिला के सभी प्रखंडों में चयनित 317 सत्र स्थलों पर गर्भवती महिलाओं एवं पांच वर्ष तक के बच्चों का विभिन्न जानलेवा बीमारियों से बचाव को ले टीकाकरण किया जायेगा। 90 प्रतिशत आच्छादन की प्राप्ति को लेकर इस अभियान में पोलियो, टीवी, डिप्थीरिया, टेटनस, निमोनिया, हेपेटाइटिस बी, खसरा रूबेला, जैपनीज एन्सेफेलाइटिस, दस्त आदि से बचाव के लिये नि:शुल्क टीकाकरण दो चरणों में किया जाना है। इसका प्रथम चक्र 22 फरवरी से एवं द्वितीय चक्र 22 मार्च से चलाया जायेगा। कार्यक्रम के सफल संचालन को लेकर आईसीडीएस डीपीओ रश्मि वर्मा ने रहिका प्रखंड के पासवान टोल के आंगनबाड़ी केंद्र संख्या 61 का निरीक्षण किया तथा सेविकाओं को आवश्यक दिशा निर्देश दिया। इस दौरान डीपीओ ने आंगनबाड़ी केंद्रों पर उपलब्ध सुविधाओं का जायजा लिया एवं केंद्र खोलने के लिए स्थानीय अभिभावकों से विमर्श भी किया ।

आंगनबाड़ी केंद्रों व आसपास की सफाई का लिया जायजा :
जिला कार्यक्रम पदाधिकारी डॉ.रश्मि वर्मा ने रहिका प्रखंड के पासवान टोला आंगनबाड़ी केंद्र संख्या 61 में उपस्थित आंगनबाड़ी केंद्रों और केंद्र के आसपास की सफाई का जायजा लिया। इस दौरान उन्होंने कहा कि तंदुरुस्त होना बेहतर साफ सफाई से ही सम्भव होता है। कोरोना काल में सभी आंगनबाड़ी केंद्र केवल केंद्र आने वाले शिशुओं के लिए ही बन्द था। सभी सेविकाएँ अपने केंद्र और पोषक क्षेत्र का नियमित निरीक्षण करती रही हैं । ऐसे में उन्हें केंद्र और इसके आसपास की सफाई का खयाल रखना जरूरी है। डीपीओ द्वारा निरीक्षण में सभी आंगनबाड़ी केंद्रों पर समुचित साफ-सफाई पाई गई। डीपीओ ने सभी सेविकाओं और सहायिकाओं को साफ सफाई पर विशेष ध्यान रखने का निर्देश दिया।

केंद्रों में साबुन-पानी की उपलब्धता जरूरी :
निरीक्षण के दौरान डीपीओ ने सभी आंगनबाड़ी केंद्रों पर साबुन-पानी की समुचित व्यवस्था की भी जांच की । उन्होंने बताया कि कोविड-19 संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए सभी व्यक्तियों को नियमित हाथों की सफाई बहुत जरूरी है। केंद्र के बन्द होने पर भी आंगनबाड़ी सेविकाएँ नियमित रूप से केंद्रों पर उपस्थित रहती हैं। इसके अलावा भी विशेष जरूरतों पर केंद्र में आमलोगों की उपस्थिति होती रहती है। ऐसे में आंगनबाड़ी केंद्रों पर हाथों की सफाई के लिए साबुन एवं पानी का उपलब्ध होना बहुत ही जरूरी है। उन्होंने सभी आंगनबाड़ी केंद्रों पर इसकी व्यवस्था का निरीक्षण किया और आगे भी इस सुविधा को सभी केंद्रों पर हमेशा उपलब्ध रखने का निर्देश दिया।

 

कोरोना संक्रमण की पहचान व रोकथाम को दिया दिशा-निर्देश :
निरीक्षण में डीपीओ ने सभी सेविकाओं से उनके पोषक क्षेत्र में कोविड-19 की स्थिति का जायजा लिया। उन्होंने सभी सेविकाओं से कोरोना संक्रमण की पहचान एवं उसकी रोकथाम के लिए लोगों को जागरूक करने की जानकारी दी। कहा कि कोरोना संक्रमण अभी भी किसी को हो सकता है। ऐसे में सेविकाएँ नियमित क्षेत्र भ्रमण कर लोगों को इससे बचने के लिए जरूरी उपायों की जानकारी देती रहें। अभी भी इससे बचाव के लिए लोगों को पूरी तरह मास्क का प्रयोग, सैनिटाइजर या साबुन से हाथों की नियमित सफाई के लिए जागरूक करना जरूरी है। संक्रमण अभी खत्म नहीं हुआ है इसलिए लोगों को इसके प्रति लापरवाही नहीं बरतने के लिए जागरूक करते रहें।

आंगनबाड़ी केंद्र खोलने के लिए अभिभावकों से किया विमर्श :
क्षेत्र भ्रमण के साथ ही डीपीओ रश्मि वर्मा ने आंगनबाड़ी केंद्र पर पंजीकृत बच्चों के कोविड संक्रमण की जानकारी ली। इसके अलावा उन्होंने क्षेत्र में उपलब्ध शिशुओं के अभिभावकों से भी आंगनबाड़ी केंद्रों के खोलने पर विचार- विमर्श किया। क्षेत्र के बहुत से लोगों ने आंगनबाड़ी केंद्र खोले जाने को लेकर अपनी सहमति जाहिर की।

मौके पर केयर इंडिया के ब्लॉक मैनेजर अमित कुमार विपुल, यूनिसेफ के बीएमसी चंचल कुमार उपस्थित थे।

 25 total views,  1 views today

shyam ji

shyam ji

Leave a Reply