नीतीश कुमार के कार्यों में देखी जा सकती है बाबा गाडगे के आदर्शों की झलक : आरसीपी सिंह

नीतीश कुमार के कार्यों में देखी जा सकती है बाबा गाडगे के आदर्शों की झलक : आरसीपी सिंह
WhatsApp Image 2021-01-08 at 15.08.21
WhatsApp Image 2021-01-17 at 13.22.37
tall copy
Untitled-1
WhatsApp Image 2021-03-05 at 1.52.50 PM

पटना

-राष्ट्रसंत बाबा गाडगे की 145वीं जयंती मनायी गयी

जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह ने बाबा गाडगे सच्चे अर्थों में राष्ट्रसंत थे। ऐसे ही संतों एवं महापुरुषों के कारण भारतीय संस्कृति अब तक जीवंत बनी हुई है। इस निष्काम कर्मयोगी ने आजीवन भिक्षा मांग-मांग कर अनगिनत धर्मशाला, गौशाला, विद्यालय और चिकित्सालय बनवाए लेकिन अपने लिए एक कुटिया तक नहीं बनवाई। इतना ही नहीं, उनकी सोच समय से कितना आगे थी, इसका अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि उन्होंने आज से दशकों पहले स्वच्छता के लिए अभियान चलाया, जो काम आज केन्द्र और राज्य की सरकारें कर रही हैं।
न्यू कैपिटल धोबीघाट, हड़ताली मोड़, बेली रोड, पटना में आयोजित बाबा संत गाडगे महाराज के 145वीं जयंती समारोह में आरसीपी सिंह उद्घाटनकर्ता एवं मुख्य अतिथि के रूप में बोल रहे थेl इस मौके पर पूर्व मंत्री दशई चौधरी, जदयू के प्रदेश महासचिव डॉ. नवीन कुमार आर्य, अनिल कुमार एवं चंदन कुमार सिंह के साथ ही रामेश्वर रजक, साधना रजक, बबलू रजक, रंजीत रजक, सन्नी कुमार, ई. राजेन्द्र रजक, अंजनी लाल आदि मौजूद रहे। इस मौके पर श्री सिंह ने गाडगे महाराज के ऊपर लिखी गई एक पुस्तक का लोकार्पण भी किया।
अपने संबोधन में श्री सिंह ने कहा कि बाबा गाडगे आजीवन सामाजिक बुराइयों के विरुद्ध लड़ते रहे, नशाखोरी और छुआछूत के लिए अभियान चलाया और किसानों-मजदूरों के उत्थान के लिए संघर्षरत रहे। बिहार में हमारे नेता मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कार्यों में उनके आदर्शों की झलक मिलती है। यहां उनके नेतृत्व में जिस तरह न्याय के साथ विकास की स्थापना हुई है, समाज के हाशिए पर खड़े लोगों को ताकत दी गई है और शराबबंदी, दहेजबंदी, बालविवाहबंदी एवं जल-जीवन-हरियाली जैसे अभियान चल रहे हैं, उससे इस धारणा को बल मिलता है कि बुराइयों से लड़ने का और लोकसेवा करने का संस्कार भारत की मिट्टी में बरकरार रहेगा। बाबा गाडगे का महाराष्ट्र हो या हमारा बिहार, “सेवा ही हमारा धर्म है” का स्वर हमेशा बुलंद रहेगा

 103 total views,  2 views today

shyam ji

shyam ji

Leave a Reply