अखिल भारतीय साहित्य परिषद ने मनाया साहित्यकार व कवि निराला की जयन्ती

अखिल भारतीय साहित्य परिषद ने मनाया साहित्यकार व कवि निराला की जयन्ती
WhatsApp Image 2021-01-08 at 15.08.21
WhatsApp Image 2021-01-17 at 13.22.37
tall copy
WhatsApp Image 2021-01-26 at 12.25.37
Untitled-1

सुभाष चन्द्र झा
जिला प्रभारी
फ्रंटलाइन 24
सहरसा

अखिल भारतीय साहित्य परिषद के साहित्यकारो ने परिषद कार्यालय विद्यापति नगर में महान पर्व ज्ञान की देवी सरस्वती एवं साहित्यकार व कवि सुर्यकांत त्रिपाठी निराला जयन्ती मनाया। कार्यक्रम का शुभारंभ अध्यक्ष डाॅ जी पी शर्मा द्वारा सरस्वती वंदना माँ शारदे तुम्हारी पूजा करूँ मैं कैसे से हुआ।उन्होंने निराला जी के संबंध में कहा कि निराला जी बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे।कविता के अतिरिक्त उन्होंने उपन्यास, कहानियाँ, निबन्ध, आलोचना और संस्मरण भी लिखे हैं।उन्होंने परिमार्जित साहित्यिक खड़ीबोली में रचनाएँ की है।भाषा पर निराला जी का पूर्ण अधिकार था।उन्होने कहा कि हिंदी साहित्य में आज निराला ना होते तो हिंदी इतनी समृद्ध नहीं बनती।उपाध्यक्ष श्यामा नन्द लाल दास “सहर्ष “ने कहा कि वे मूलतः कवि थे और छायावाद के प्रमुख प्रवर्तकों में से एक थे।उनकी कविता में विषय की विविधता और नवीन प्रयोगों की बहुलता है।वे निराला थे और उनका काव्य भी निराला है।उन्होने हिंदी साहित्य की विष को पीकर अमृत प्रदान किया ।इस अवसर पर उपस्थित साहित्यकार कुमार विक्रमादित्य ,मुर्तजा नरियारवी,
एम जेड खाँ झंझट,अभिमन्यु कुमार, तथा जितेन्द्र कुमार ने भी निराला जी के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर प्रकाश डाले।कार्यक्रम के दूसरे सत्र में बसंतोत्सव मनाते हुए कवि गोष्ठी हुई।कवियो ने बसंत गान से दर्शकों से खूब तालियाँ बटोरी।

 43 total views,  2 views today

shyam ji

shyam ji

Leave a Reply