एक महिला ने बॉम्बे हाईकोर्ट की जज पुष्पा को भेजे 150 कंडोम

एक महिला ने बॉम्बे हाईकोर्ट की जज पुष्पा को भेजे 150 कंडोम
WhatsApp Image 2021-01-08 at 15.08.21
WhatsApp Image 2021-01-17 at 13.22.37
tall copy
Untitled-1
WhatsApp Image 2021-03-05 at 1.52.50 PM

नागपुर

-बिना स्किन टच के यौन शोषण नहीं, जैसे विवादित फैसले देने पर विवादों मे आई थीं जज
-फैसले से खफा महिला ने कंडोम भेज बताया, इससे भी तो स्किन टच नहीं होता

अहमदाबाद की एक महिला ने बॉम्बे हाईकोर्ट की अतिरिक्त न्यायाधीश न्यायमूर्ति पुष्पा वी गनेडीवाला को 150 कंडोम भेजे हैं। न्यायाधीश न्यायमूर्ति पुष्पा हाल ही में यौन शोषण से जुड़े दो मामलों में विवादित फैसला सुनाने के बाद सुर्खियों में आईं थी। उन्होंने अपने फैसलों में कहा था कि 12 साल की बच्ची का टॉप उतारे बिना स्तन छूना और बच्ची का हाथ पकड़कर पैंट की चेन खोलना पॉस्को के तहत अपराध नहीं है, जिसके बाद देश भर में इस फैसले की जमकर आलोचना हुई थी।
मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, अहमदाबाद निवासी देवश्री त्रिवेदी का कहना है कि उन्होंने जस्टिस पुष्पा के फैसले का विरोध जताने के लिए उनके घर और दफ्तर के पते पर कंडोम के 150 पैकेट भेजे हैं। देवश्री ने कहा कि जस्टिस पुष्पा का मानना है कि अगर स्किन को नहीं छुआ है, तो फिर यौन शोषण नहीं है। मैंने उनको कंडोम भेजकर बताया है कि इसका इस्तेमाल करने पर भी स्किन टच नहीं होता तो इसे क्या कहा जाएगा? देवश्री का कहना है कि मैंने एक चिट्ठी भी जस्टिस पुष्णा को लिखी है और उनके फैसले पर विरोध दर्ज कराया है। उन्होंने जस्टिस गनेडीवाला को निलंबित किए जाने की भी मांग उठाई है।
हालांकि नागपुर बेंच के रजिस्ट्री ऑफिस की ओर से बताया गया कि अभी तक उनके यहां इस प्रकार का कोई भी पैकेट नहीं पहुंचा है। नागपुर बार एसोसिएशन के वकील श्रीरंग भंडारकर ने कहा कि ये अवमानना का केस है और इस हरकत के लिए महिला के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए।
जस्टिस पुष्पा गनेडीवाला महाराष्ट्र के अमरावती की रहने वाली हैं। 2007 में वह जिला जज बनी थीं। इसके बाद नागपुर में मुख्य जिला और सेशन जज बनीं। फिर बॉम्बे हाईकोर्ट की रजिस्ट्रार जनरल नियुक्त की गईं। फरवरी 2019 में उन्हें बॉम्बे हाईकोर्ट में अस्थाई जज बनाया गया। इस बीच सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने जस्टिस पुष्पा को हाईकोर्ट का स्थायी न्यायाधीश बनाने की सिफारिश की थी, लेकिन अब उनके द्वारा दिए गए दो विवादित फैसलों के बाद इस सिफारिश की वापसी होने की संभावना हो गई है।

 182 total views,  1 views today

shyam ji

shyam ji

Leave a Reply