माता लक्ष्मी को भगवान विष्णु ने इस तरह बताया नाम की महिमा

माता लक्ष्मी को भगवान विष्णु ने इस तरह बताया नाम की महिमा
WhatsApp Image 2021-01-08 at 15.08.21
WhatsApp Image 2021-01-17 at 13.22.37
tall copy
Untitled-1
WhatsApp Image 2021-03-05 at 1.52.50 PM

धर्म

एक अनपढ़-गँवार आदमी एक महात्मा जी के पास जाकर बोला-महाराज, हमको तो कोई सीधी-सादी बात बता दो, हम भगवान का नाम लेंगे। महात्माजी ने कहा- तुम ‘अघमोचन-अघमोचन’(अघ माने पाप, मोचन माने छुड़ाने वाला) नाम लिया करो। अब वह बेचारा गाँव का गँवार आदमी अघमोचन अघमोचन करता हुआ चला तो गाँव जाते-जाते “अ” भूल गया और ‘घमोचन-घमोचन” बोलने लगा।
एक दिन वह हल जोत रहा था और “घमोचन-घमोचन” कर रहा था, इतने में वैकुंठ लोक में विष्णु भगवान भोजन करने बैठे। तभी उनको हँसी आ गयी। लक्ष्मीजी ने पूछा-आप क्यों हँस रहे हो।भगवान बोले-आज हमारा भक्त एक ऐसा नाम ले रहा है कि वैसा नाम तो किसी शास्त्र में है ही नहीं। लक्ष्मी जी बोली-तब तो हम उसको देखेंगे और सुनेंगेे कि कौन-सा नाम ले रहा है।
लक्ष्मी-नारायण दोनों खेत में पहुँचे। पास में गड्ढा था। विष्णु भगवान स्वयं तो वहाँ छिप गये और लक्ष्मीजी भक्त के पास जाकर पूछने लगीं-अरे, तू यह क्या घमोचन-घमोचन बोल रहा है? उन्होंने एक बार, दो बार, तीन बार पूछा परंतु उसने कुछ उत्तर ही नहीं दिया। उसने सोचा कि इसको बताने में हमारा नाम-जप छूट जायेगा। अतः वह चुप रहा, बोला ही नहीं। जब बार-बार लक्ष्मी जी पूछती रहीं तो अंत में उसको आया गुस्सा। गाँव का आदमी तो था ही, बोला-जा-जा ! तेरे खसम (पति) का नाम ले रहा हूँ।
यह उत्तर सुनकर लक्ष्मी जी डर गई कि यह तो हमको पहचान गया। फिर बोलीं-अरे, तू मेरे खसम को जानता है क्या? कहाँ है मेरा खसम? एक बार, दो बार, तीन बार पूछने पर वह फिर झुँझलाकर बोला वहाँ गड्ढे में है, जा। लक्ष्मी जी समझ गयीं कि इसने हमको पहचान लिया। तब तक नारायण भी वहाँ आ गये और बोले-लक्ष्मी, देख ली मेरे नाम की महिमा। यह अघमोचन और घमोचन का भेद भले न समझता हो लेकिन हम तो समझते हैं कि यह हमारा ही नाम ले रहा है। यह हमारा ही नाम समझकर घमोचन नाम से हमको ही पुकार रहा है।
तत्पश्चात भगवान ने भक्त को दर्शन देकर कृतार्थ किया। भक्त शुद्ध-अशुद्ध, टूटे-फूटे शब्दों से अथवा गुस्से में भी, कैसे भी भगवान का नाम लेता है तो भगवान का हृदय उससे मिलने को लालायित हो उठता है।

 63 total views,  1 views today

shyam ji

shyam ji

Leave a Reply